सफलता का रहस्‍य | How to get success

0
40

दोस्‍तों आज हम आपको एक ऐसी कहानी के बारे में बता रहे हैं जिसे पढ़कर समझ जायेंगे। सफलता का रहस्‍य क्‍या है और How to get success. तो चलिये शुरू करते हैं।

एक बार एक व्‍यक्ति सुकरात के पास आये और उनसे उनकी सफलता का रहस्‍य पूछा। सुकरात ने कहा यदि तुम मेरी सफलता का रहस्‍य जानना चाहते हो तो कल सुबह नदी के किनारे आ जाना वहीं मै तुम्‍हें सफलता का रहस्‍य बताऊंगा।

अगली सुबह वह व्‍यक्ति सुकरात द्वारा बताये गये स्‍थान नदी किनारे पहुंच गया सुकरात उस व्‍यक्ति को नदी के बीच में ले गये तथा उस व्‍यक्ति का सिर पकड़कर नदी में डूबा दिया। अब वह व्‍यक्ति सांस लेने के तड़पने लगा तथा उसका शरीर नीला पड़ने लगा वह सांस लेने के लिये झटपटा रहा था।

थोड़ी देर बाद सुकरात ने उसका सिर पानी से बाहर निकाला और उस व्‍यक्ति से पूछा कि तुम्‍हें पानी के अन्‍दर किस चीज की सबसे अधिक आवश्‍यकता महसूस हुई तथा तुम किस चीज के लिये इतना झटपटा रहे थे।

तब उस व्‍यक्ति ने उत्‍तर दिया‍ कि मुझे पानी की अन्‍दर सांस लेने की सबसे ज्‍यादा आवश्‍यकता महसूस हुई तथा मैं सांस लेने के लिये ही झटपटा रहा था।

तब सुकरात ने कहा बस यही है सफलता का रहस्‍य जिस तरह नदी के अन्‍दर तुम सांस लेने के लिये पूरा प्रयत्‍न कर रहे थे ठीक उतना ही प्रयत्‍न किसी भी चीज में सफलता पाने के लिये करो तो तुम्‍हे सफलता जरूर मिलेगी।

यही सफलता का सच्‍चा रहस्‍य है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here