Online Practice Test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021

0
69
Online Practice Test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021
Online Practice Test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021

Hello Friends, In Online Practice/mock Test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021, we have taken very important questions from the point of view of examination and also have given the answers of those questions in detail so that you can understand easily.

Why Choose this Test?

In this test, we have taken very important questions from the point of view of UPPCL Asistant Accountant Exam 2021. and also have given the answers of those questions in detail so that you can understand easily. After giving this test you will say that this is one of the best online practice set for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021.

Whats New in this practice set for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021?

Question Related to INCOME Tax Sections We have told that what changes have happened in those Income Tax Sections in the present compared to the past.
Question Related to TDS Sections We have told that what changes have happened in those TDS Sections in the present compared to the past.

What type of questions are taken in this online practice set for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021.

In this Online Practice Test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021, we have taken the questions asked by UPPCL in the previous years assistant accountant exams because these questions are very important from the point of view of the UPPCL Assistant accountant exam 2021.

Also for this mock test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021  for each question, we have also provided you detailed information about that answer so that if there are other questions related to it asked in UPPCL Assistant Exam 2021, then you can easily answer them.

Hindi Grammar Online Test | Online Hindi Grammar Test

Why is Online Practice set for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021 is important with respect to the Section related to income tax?

As you know, in the previous exams of UPPCL Assistant Accountant many question related to income tax Section were asked At present there has been some change in all the Sections. Hence in this mock test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021, while answering the questions that came in the past related to the Income Tax Sections, we have told that what changes have happened in those Income Tax Sections in the present compared to the past.

In this Online Practice Set for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021. I Will updated Question on daily basis.

[ays_quiz id=’2′]

Important Computer Question for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021

Important Computer Question for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021
Start

Congratulations - you have completed Important Computer Question for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021.

You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%.

Your performance has been rated as %%RATING%%


Your answers are highlighted below.

Part- 1 of Important Question for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021

Congratulations - you have completed Part- 1 of Important Question for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021.

You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%.

Your performance has been rated as %%RATING%%


Your answers are highlighted below.
Question 1
एक व्‍यापारी द्वारा अपने यहां लेखांकन के किस स्‍वरूप को अपनाया जाता है।
A
लागत लेखाकंन
B
वित्‍तीय लेखांकन
C
कर लेखांकन
D
प्रबन्‍धकीय लेखांकन
Question 1 Explanation: 
एक व्‍यापारी का उदेश्‍य अपने व्‍यापार का लाभ हानि ज्ञात करना होता है। वित्‍तीय लेखांकन से ही लाभ- हानि ज्ञात किया जा सकता है। इसलिए कोई भी व्‍यापारी वित्‍तीय लेखांकन के स्‍वरूप को ही अपनाता है।
Question 2
लेखाशास्‍त्र के सिद्धांत कैसे होते हैं।
A
सार्वभौमिक
B
स्‍थायी
C
परिवर्तनशील
D
इनमें से कोई नहीं
Question 2 Explanation: 
लेखांकन के सिद्धांत परिवर्तनशील होते हैं क्‍योंकि इसके सिद्धांत तर्क एवं शोध के अनुसार परिवर्तित होते रहते हैं।
Question 3
बैंक समाधान विवरण किसे द्वारा बनाया जाता है।
A
व्‍यापारी
B
बैंक
C
देनदार
D
इनमें से कोई नहीं
Question 3 Explanation: 
यह व्‍यापारी द्वारा बनाया जाता है किसी निश्चित तिथ‍ि को अपनी रोकड पुस्‍तक के बैंक खाते की बाकी का बैंक की पास बुक से मिलान करने के लिए जो विवरण बनाया जाता है उसे बैंक समाधान विवरण कहते हैं।
Question 4
लाभ-हानि खाता बनाया जाता है।
A
एक निश्चित अवधि के लिए
B
एक निश्चित तिथि को
C
सम्‍पूर्ण वर्ष के लिए
D
इनमें से कोई नहीं
Question 4 Explanation: 
लाभ हानि खाता किसी निश्चित अवधि (व्‍यापारिक काल) का शुद्ध लाभ अथवा शुद्ध हानि को बताता है। यह सामान्‍यत: हर वर्ष तैयार किया जाता है। इस खाते से व्‍यापार में होने वाले दैनिक व्‍ययों का ज्ञान होता है।
Question 5
खाताबही क्‍या है।
A
व्‍यापार की प्रधान पुस्‍तक
B
व्‍यापार की सहायक पुस्‍तक
C
एक बार प्रयोग में आने वाली पुस्‍तक
D
इनमें से कोई नहीं
Question 5 Explanation: 
खाताबही प्रत्‍येक व्‍यपारी की प्रधान बही (पुस्‍तक) है, इसमें सभी खातों का संकलन होता है, खाताबही के प्रत्‍येक पन्‍ने पर प्राय: एक ही खाता खोला जाता है इसमें प्रत्‍येक पृष्‍ठ दो भागों में विभाजित किया जाता है, बायाॅ भाग डेबिट तथा दायां भाग क्रेडिट होता है।
Question 6
भारत में सर्वप्रथम आयकर की शुरूआत कब हुई।
A
1651
B
1860
C
1982
D
1972
Question 6 Explanation: 
देश में आयकर की शुरूआत 1860 में हुई, तब भारत के तत्‍कालीन गवर्नर जनरल की परिषद बिल सदस्‍य सर जेम्‍स विल्‍सन ने आयकर कानून लागू किया। यह कर धनवालों, रजवाडों और देश में रहने वाले ब्रिटेन के नागरिकों पर लगाया गया था, पहले साल आयकर से सरकारी खाजे को ३० लाख रूपये मिले थे।
Question 7
भारत में आयकर अधिनियम कब बना।
A
1961
B
1860
C
1960
D
1909
Question 7 Explanation: 
भारत में आयकर की शुरूआत 1860 में हुई थी परन्‍तु भारत में आयकर अधिनियम 1961 में बना। यह आजादी के बाद पहला आयकर अधिनियम था। यह अधिनियम ०१ अप्रैल 1962 में लागू किया गया। यह नियम सम्‍पूर्ण भारत (जम्‍मू व कश्‍मीर सहित) लागू होता है। सिक्किम में यह ०१ अप्रैल 1990 में लागू हुआ।
Question 8
रोकड़ खाता होता है।
A
वास्‍तविक खाता
B
व्‍यक्तिगत खाता
C
अवास्‍तविक खाता
D
इनमें से कोई नहीं
Question 8 Explanation: 
रोकड़ खाता एक वास्‍तविक खाता होता है इसमें उन वस्‍तुओं या सम्‍पत्ति से संबंधित खाते होंते हैं जिसके आधार पर व्‍यापार का संचालन किया जाता है।
Question 9
प्रारम्भिक लेखों की वह कौन सी पुस्‍तक होती है, जिसमें समस्‍त लेन देन तिथिवार लेखे किये जाते हैं।
A
रोकड़ पुस्‍तक
B
स्‍मारक पुस्‍तक
C
जर्नल
D
तलपट
Question 9 Explanation: 
जर्नल या रोजनामचा प्राथमिक लेखा की प्राथमिक एवं महत्‍वपूर्ण बही है, जो व्‍यवसायिक व्‍यवहारों का उसके घटित होने के क्रम में तथा तिथिवार लेखा करने के लिए प्रयुक्‍त होती हैा इनमें व्‍यवहारों का तिथिवार वर्गीकरण हो जाता है। जिसको सुविधापूर्वक खाताबी में अन्‍तरित किया जा सके। जर्नल में निश्चित नियमों के अनुसार व्‍यवहारों को लिखने की क्रिया को प्रविष्टिकरण कहते हैं।
Question 10
कौन सी प्रविष्टि का लेखा मुख्‍य जर्नल में नहीं किया जाता है।
A
प्रारंभिक प्रविष्टि
B
समायोजन प्रविष्टि
C
अंतिम प्रविष्टि
D
उधार विक्रय
Question 10 Explanation: 
उधार विक्रय की प्रविष्टि का मुख्‍य जर्नल में लेखा नहीं किया जाता है। जर्नल में निम्‍नलिखित प्रविष्टियों का लेखा किया जाता है:- प्रारम्भिक प्रविष्टि छटनी प्रविष्टि अन्तिम प्रविष्टि अनौपचारिक प्रविष्टि स्‍थानान्‍तरण प्रविष्टि समायोजन प्रविष्टि एवं सुधार प्रविष्टि संयुक्‍त प्रविष्टि
Question 11
तलपट किस उदेश्‍य से बनया जाता है।
A
समस्‍त खातों के शेष
B
सम्‍पत्तियों तथा दायित्‍वों का तलपट
C
व्‍यापारी की आर्थिक स्थिति का निरीक्षण
D
लेखांकन प्रविष्टियों की गणितीय शुद्धता की जांच
Question 11 Explanation: 
तलपट का आशय ऐसे विवरण प्रपत्र से है जो खाता बही की सहायता से खातों की अंकगणितीय संबंधी शुद्धता की जांच के लिए तैयार किया जाता है। तलपट के दो पक्ष होते हैं १- डेबिट तथा २- क्रेडिट तलपट के डेबिट पक्ष में खाताबही का डेबिट शेष तथा क्रेडिट पक्ष में खाता बही का क्रेडिट शेष लिया जाता है है। तलपट का डेबिट शेष एवं क्रेडिट शेष सामान्‍यत: बराबर आना चाहिए किन्‍तु यह अनिवार्य नहीं है कि यह सदैव संतुलित रहे। तलपट का शेष बराबर न होने की स्थिति में अन्‍तर वाले पक्ष में अन्‍तर की राशि उचन्‍त खाता (Suspencse A/c ) में हस्‍तान्‍तरित कर दिया जाता है। अत- स्‍पष्‍ट है कि तलपट बनाने का मुख्‍य उदेश्‍य लेखांकन प्रविष्टियों के आधार पर बनाये गये खाता बही की गणितीय शुद्धता की जांच करना होता है।
Question 12
दोहरा लेखा प्रणाली के अन्‍तर्गत लेखे की प्रथम अवस्‍था है।
A
एक खाते के दोनों पक्ष में
B
दो खाते के क्रेडिट पक्ष में
C
दो खाते के डेबिट पक्ष में
D
एक खाते के डेबिट पक्ष में तथा दूसरे खाते के क्रेडिट पक्ष में।
Question 12 Explanation: 
दोहरा लेखा प्रणाली के आधारभूत सिद्धांत के अनुसार प्रत्‍येक व्‍यवहार के लिए एक खाता डेबिट तथा दूसरा खाता क्रेडिट होता है साथ ही दोनों खातों के दोनों पक्षों में एक ही धनराशि होती है।
Question 13
व्‍यापारिक खाता होता है।
A
व्‍यक्तिगत खाता
B
वास्‍तविक खाता
C
नाममात्र खाता
D
इनमें से कोई नहीं
Question 13 Explanation: 
व्‍यापारिक खाता एक नाममात्र खाता (Nominal A/c) होता है जिसके द्वारा एक निश्चित अवधि के क्रय-विक्रय से होने वाले सकल लाभ या हानि की जानकारी प्राप्‍त होती है। सकल लाभ से आशय विक्रय मूल्‍य या उसके क्रय मूल्‍य से आधिक्‍य से है, इसके विपरित जब क्रय मूल्‍य का विक्रय मूल्‍य से आधिक्‍य होता है तो उसे सकल हानि कहते हैं। व्‍यापार खाते से संबंधित समीकरण निम्‍न हैं- सकल लाभ=विक्रय मूल्‍य- बेचे गये माल की लागत
Question 14
ह्रास लगाया जाता है।
A
चालू सम्‍पत्ति पर
B
स्‍थायी सम्‍पत्ति पर
C
अदृश्‍य सम्‍पत्ति पर
D
दृश्‍य सम्‍पत्ति पर
Question 14 Explanation: 
सामान्‍यत: ह्रास का तात्‍पर्य उस प्रक्रिया से है, जब किसी स्‍थायी सम्‍पत्ति के प्रयो करने, समय बीत जाने अथवा नये आविष्‍कार के कारण उस सम्‍पत्ति के मूल्‍य में कमी आ जाती है। स्‍थायी सम्‍पत्ति जैसे भवन, मकान, कापीराईट व पेटण्‍ट आदि के मूल्‍य में ह्रास होता है।
Question 15
क्षतिपूर्ति का सिद्धांत लागू होता है।
A
जीवन बीमा में
B
जीवन तथा अग्नि बीमा में
C
जीवन तथा समुद्री बीमा में
D
अग्नि तथा समुद्री बीमा में।
Question 15 Explanation: 
क्षतिपूर्ति का सिद्धांत अग्नि तथा समुद्री बीमा के संबंध में लागू होता है, इस सिद्धांत के अनुसार बीमा कम्‍पनी द्वारा बीमित व्‍यक्ति को अग्नि व समुद्री बीमा के संबंध में नुकसान होने पर उसकी भरपाई हेतु क्षतिपूर्ति का भुगतान किया जाता है। जबकि जीवन बीमा के सम्‍बन्‍ध में क्षतिपूर्ति का सिद्धांत लागू नहीं होता क्‍योंकि जीवन की क्षति एक ऐसी क्षति होती है जिसकी पूर्ति किसी भुगतान द्वारा नहीं की जा सकती है।
Question 16
निम्‍नलिखित में से कौन सा जर्नल प्रविष्टियों को एडजस्‍ट करने के लिये उपयोग नहीं किया जाता है।
A
अर्जित व्‍यय और अर्जित राजस्‍व
B
पोस्‍टपेड व्‍यय
C
गैर नकद व्‍यय
D
प्रीपेड खर्च या अनर्जित राजस्‍व
Question 16 Explanation: 
पोस्‍टपेट व्‍यय जर्नल प्रविश्ष्टियों को एडजस्‍ट करने के लिए उपयोग में नहीं लाये जाते हैं। निम्‍न सामायोजन जर्नल में किये जाते हैं- अन्तिम रहतिया (Closing Stock) अदत्‍त व्‍यय (Outstanding Expense) पूर्वदत्‍त व्‍यय (Prepaid Expense) उपार्जित आय (Accrued Income) अनुपार्जित आय (Unaccrued Income) सम्‍पत्ति का मूल्‍य ह्रास (Depreciation) पूंजी पर ब्‍याज (Interest on Capital) आहरण पर ब्‍याज (Provision for double debts) अशोध्‍य ऋण (Bad Debts) संदिग्‍ध ऋण प्रावधान (Provision for Bed Debts) देनदारों के लिए छूट का प्रावधान (Provision for discount on debtor's) लेनदारों से प्राप्‍त छूट का प्रावधान (Provision for discount on Creditor)
Question 17
निम्‍नलिखित में से कौन सी पार्टियां विनिमय विपत्र में शामिल है।
A
Drawee
B
Drawer
C
Payee
D
All of these
Question 17 Explanation: 
विनिमय विपत्र एक शर्त रहित आज्ञा पत्र है, जिसके द्वारा एक लेनदार अपने ऋणी को यह आदेश देता है, वह मांगने पर अथवा निश्चित अवधि व्‍यतीत होने पर स्‍वयं उसे अथवा उसके आदेशानुसार अन्‍य व्‍यक्ति या वाहक को निश्चित रकम का भुगतान कर दे। विनिमय विपत्र लेनदार लिखित है, देनदार अपनी स्‍वीकृति देता है इसलिए इस पर दोनों के हस्‍ताक्षर अनिवार्य होते हैं। अत- स्‍पष्‍ट है कि विनिमय विपत्र में तीनों ही हुण्‍डी की रकम लेने वाला (Drawee), निकासी(Drawer), अदाता (Payee) सभी सम्‍बन्धित होती हैं। विनिमय पत्र को वैधानिक मान्‍यता प्राप्‍त है अर्थात आवश्‍यकता अनुसार इस पर कानून का मुहर लगाया जाना चाहिये।
Question 18
विनिमय विपत्र के प्रकार है।
A
Demand Bill
B
Accommodation Bill
C
Trade Bill
D
All of These
Question 18 Explanation: 
उपरोक्‍त सभी विनिमय विपत्र के प्रकार है। विनिमय विपत्र के निम्निलिखत प्रकार होते है:- 1- स्‍थान की दृष्टि से- a- देशी बिल- देशी बिल वह बिल है जिसे लिखने वाला, स्‍वीकर्ता एवं भुगतानकर्ता सभी एक देश के निवासी होते हैं। b- विदेशी बिल- जब एक देश का व्‍यापारी दूसरे देश के व्‍यापारी को बिल लिखता है तो ऐसे बिलों को विदेशी बिल कहा जाता है। 2- समय की दृष्टि से- a- दर्शनी बिल (Demand Bill)- ये वे बिल होते हैं जिसका भुगतान देनदार को बिल दिखाते ही तुरन्‍त करना पड़ता है। b- मियादी बिल- इन बिलो का भुगतान, देनदार के बिल में दी गई अवधि के पश्‍चात करना होता है। 3- प्राप्‍तकर्ता की दृष्टि से- a- वाहक बिल- इस बिल का भुगतान उस व्‍यक्ति को करना होता है जो उसे भुगतान के लिए प्रस्‍तुत करता है। b- आदेश बिल- इस बिल का भुगतान बिल में लिखे गये व्‍यक्ति को या उसके आदेशानुसार किसी अन्‍य व्‍यक्ति को किया जा सकता है। 4- प्रयोग की दृष्टि से- a- व्‍यपारिक बिल (Trade Bill)- व्‍यापारिक बिल वह प्रपत्र है जिसका प्रयोग दिन प्रतिदिन किये जाने वाले क्रय-विक्रय के संबंध में किया जाता है। व्‍यापार में ऋणों और उधार सौदे के भुगतान के लिए इन बिलों का प्रयोग किया जाता है। b- अनुग्रह बिल या परस्‍पर सहायता बिल (Accommodation Bill) अनुग्रह बिल का प्रयोग ऐसे व्‍यक्तियों के मध्‍य होता है जिसका आपस में लेनदार अथवा देनदार का सम्‍बन्‍ध नहीं है। ये बिल केवल वित्‍तीय सहायकता प्रदान करने या प्राप्‍त करने की दृष्टि से प्रयोग में लाये जाते हैं।
Question 19
निम्‍नलिखत में से कौन सा लाभ हानि खाता की सुविधा नहीं है।
A
व्‍यापार का शुद्ध परिणाम निर्धारित करने के लिय खाता वर्ष के पहले दिन तैयार किया जाता है।
B
केवल प्रत्‍यक्ष व्‍यय और अप्रत्‍यक्ष राज्‍सव इस खाते में दिखाए गये हैं।
C
यह ट्रैडिंग एकाउण्‍ट के समापन शेष से शुरू होता है अर्थात सकल लाभ या सकल नुकसान से।
D
यह अंतिम खातों का दूसरा चरण है।
Question 19 Explanation: 
लाभ हानि खाता यह प्र‍दर्शित करता है कि किसी व्‍यापारिक अवधि में शुद्ध लाभ या हानि कितनी हुई, सकल लाभ का अन्‍य व्‍यापारिक व्‍ययों की अपेक्षा जो आधिक्‍य होता है, उसे शुद्ध लाभ कहते हैं यदि स्थिति विपरीत होती है तो उसे शुद्ध हानि कहते हैं। लाभ हानि खाते में समस्‍य व्‍यय डेबिट पक्ष में तथा आय क्रेडिट पक्ष में लिखी जाती है। लाभ हानि खाते में डेबिट किये जाने वाले व्‍यय केवल माल की ब्रिकी से संबंधित व्‍यय होते हैं। व्‍या‍पार खाते और लाभ हानि खाते में केवल इतना ही अन्‍तर होता है कि व्‍यापार खाते से माल के क्रय एवं उत्‍पादन संबंधी सभी सूचनाएं प्राप्‍त होती हैं, और लाभ हानि खाते से माल के विक्रय संबंधी। इन्‍ही दोनों पहलुओं को पृथक दिखाने के लिए पहले व्‍यापार खाता तथा दूसरा लाभ हानि खाता बनाया जाता है। ध्‍यान रखें अन्तिम खाते के निम्‍न चरण होते हैं- प्रथम चरण- व्‍यापार खाता दूसरा चरण- लाभ-हानि खाता तृतीय चरण- आर्थिक चिट्ठा
Question 20
निम्‍नलिखित में कौन सा आय और व्‍यय खातों की विशेषता है।
A
इसी शेष राशि क्रेडिट कभी नही हो सकती।
B
यह खाता पहले वर्ष को छोडकर ओपनिंग बैलेंस की शेष राशि दिखाता है।
C
पूंजी और राजस्‍व दोनों लेन देन यहां दर्ज किए जाते हैं।
D
केवल राजस्‍व लेन देन यहां दर्ज किये जाते हैं।
Question 20 Explanation: 
आय-व्‍यय खाते वे खाते होते हैं, जिसमें व्‍यापारी निर्मित अथवा अर्धनिर्मित अवस्‍था में माल क्रय करते हैं और उन्‍हें बिक्री योग्‍य बनाने हेतु कुछ व्‍यय करते हैं अर्थात यह व्‍यय राजस्‍व व्‍यय कहलाते हैं। इस खाते को तैयार करने के पश्‍चात हमें केवल यह जानकारी प्राप्‍त होती है कि क्रय एवं विक्रय करने में कितना लाभ या हानि होती है। अत स्‍पष्‍ट है कि यहां केवल राजस्‍व लेन देन दर्ज किये जाते हैं।
Once you are finished, click the button below. Any items you have not completed will be marked incorrect. Get Results
There are 20 questions to complete.

Part- 2 of Important Question for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021

Congratulations - you have completed Part- 2 of Important Question for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021.

You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%.

Your performance has been rated as %%RATING%%


Your answers are highlighted below.
Question 1
मूल्‍यह्रास के लिए लेखांकन मानक क्‍या है।
A
AS 6
B
AS 19
C
AS 4
D
AS 5
Question 1 Explanation: 
AS – 6 DEPRECIATION ACCOUNTING Depreciation is a measure of the wearing out, consumption or other loss of value of a depreciable asset arising from use, passage of time or obsolescence through technology and market changes. Depreciation is allocated so as to charge a fair proportion of the depreciable amount in each accounting period during the expected useful life of the asset. Depreciation includes amortisation of assets whose useful life is predetermined. The depreciable amount of a depreciable asset should be allocated on a systematic basis to each accounting period during the useful life of the asset. Depreciable assets are assets which [1] are expected to be used during more than one accounting period; and [2] have a limited useful life; and [3] are held by an enterprise for use in the production or supply or for administrative purposes. Depreciable amount of a depreciable asset is its historical cost, or other amount substituted for historical cost less the estimated residual value. Useful life is the period over which a depreciable asset is expected to be used by the enterprise. The useful life of a depreciable asset is shorter than its physical life. There are two method of depreciation: 1] Straight Line Method (SLM) 2] Written Down Value Method (WDVM) Note: A combination of more than one method may be used.
Question 2
व्‍यक्तिगत वेतनभोगी द्वारा आयकर विवरणी प्रस्‍तुत करने की अं‍तिम तिथ‍ि क्‍या होती है।
A
31 DECEMBER
B
31 JULY
C
30 SEPTEMBER
D
31 MARCH
Question 2 Explanation: 
31 जुलाई: यह उन करदाताओं के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि है जिनके खातों का ऑडिट करने की आवश्यकता नहीं है, आमतौर पर वेतनभोगी करदाता, वरिष्ठ नागरिक आदि वित्त वर्ष 2020-21 के लिए। सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए आईटीआर दाखिल करने की तारीख 31 जुलाई की सामान्य समय सीमा से बढ़ाकर 30 सितंबर, 2021 कर दी है।
Question 3
विनिमय बिल के परिपक्‍व होने के मामले में कितने दिन का अनुग्रह दिया जाता है।
A
03 days
B
02 days
C
01 day
D
05 days
Question 3 Explanation: 
3 दिनों को 'अनुग्रह के दिन' के रूप में जाना जाता है। यह अनुग्रह के दिनों को जोड़ने का रिवाज है। उदाहरण के लिए, यदि बिल 1 जनवरी को निकाला गया है और इसकी परिपक्वता अवधि 1 महीने है तो देय तिथि 1 जनवरी + 1 महीना + 3 दिन = 4 फरवरी होगी।
Question 4
भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक को उपधारा 5 के अन्‍तर्गत लेखा परीक्षा रिपोर्ट की प्राप्ति से एक अनुपूरक लेखा परीक्षा आयोजित करने का अधिकार है।
A
90 days
B
30 days
C
15 days
D
60 days
Question 4 Explanation: 
143 (6): The Comptroller and Auditor-General of India shall within sixty (60) days from the date of receipt of the audit report under sub-section (5) have a right to,- 143 (6): The Comptroller and Auditor-General of India shall within sixty (60) days from the date of receipt of the audit report under sub-section (5) have a right to,- (a) conduct a supplementary audit of the financial statement of the company by such person or persons as he may authorize in this behalf; and for the purposes of such audit, require information or additional information to be furnished to any person or persons, so authorized, on such matters, by such person or persons, and in such form, as the Comptroller and Auditor-General of India may direct; and (b) comment upon or supplement such audit report: Provided that any comments given by the Comptroller and Auditor General of India upon, or supplement to, the audit report shall be sent by the company to every person entitled to copies of audited financial statements under sub section (1) of section 136 and also be placed before the annual general meeting of the company at the same time and in the same manner as the audit report.
Question 5
वित्‍तीय संस्‍था बैक या अन्‍य से किसी आवसीय सम्‍पत्ति पर अधिग्रहण हेतु लिये गये ऋण की कटौति का दावा किस धारा के अन्‍तर्गत किया जाता है।
A
80CC
B
80E
C
80GGB
D
80EE
Question 5 Explanation: 
section 80EE What is Section 80EE of the Income Tax? Section 80EE allows Income Tax Benefit on Interest on Home Loan to first time buyers in the following events:- This deduction will be provided only if the cost of the property acquired is not more than Rs. 50 Lakhs and the amount of the loan taken is upto Rs. 35 Lakhs. The loan should be sanctioned between 1st April 2016 and 31st March 2017. The advantage of this deduction would be possible till the time the payment of the loan continues. This deduction would be accessible from the financial year 2016-17 and onwards.
Question 6
धारा 80G के अन्‍तर्गत किये गये दान की अनुमत कटौति कितनी है।
A
बिना किसी अर्हक सीमा के 100 प्रतिशत
B
बिना किसी अर्हक सीमा के 50 प्रतिशत
C
अर्हक सीमा के अधीन 50 प्रतिशत
D
अर्हक सीमा के अधीन 100 प्रतिशत
Question 6 Explanation: 
धारा 80G . के तहत कटौती पात्र ट्रस्टों/धर्मार्थ संस्थाओं के लिए भुगतान किया गया दान जो कर कटौती के लिए अर्हता प्राप्त करते हैं, कुछ शर्तों के अधीन हैं। धारा 80G के तहत दान को मोटे तौर पर चार श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है, जैसा कि नीचे बताया गया है। १००% कटौती के साथ दान (बिना किसी योग्यता सीमा के): इस श्रेणी के तहत किए गए दान में १००% कर कटौती का आनंद मिलता है और किसी भी योग्यता सीमा को पूरा करने के अधीन नहीं हैं। राष्ट्रीय रक्षा कोष, प्रधान मंत्री राष्ट्रीय राहत कोष, सांप्रदायिक सद्भाव के लिए राष्ट्रीय फाउंडेशन, राष्ट्रीय/राज्य रक्त आधान परिषद, आदि को दान ऐसी कटौती के लिए पात्र हैं। ५०% कटौती के साथ दान (बिना किसी योग्यता सीमा के): प्रधान मंत्री सूखा राहत कोष, राष्ट्रीय बाल कोष, इंदिरा गांधी स्मारक कोष, आदि जैसे ट्रस्टों के लिए किए गए दान दान की गई राशि पर ५०% कर कटौती के लिए पात्र हैं। १००% कटौती के साथ दान (समायोजित सकल कुल आय के १०% के अधीन): परिवार नियोजन को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय अधिकारियों या सरकार को किए गए दान और भारतीय ओलंपिक संघ को दिए गए दान इस श्रेणी के तहत कटौती के योग्य हैं। ऐसे मामलों में, दाता की समायोजित सकल कुल आय का केवल 10% ही कटौती के लिए पात्र है। इस राशि से अधिक के दान को 10% तक पूर्णांकित किया जाता है। ५०% कटौती के साथ दान (समायोजित सकल कुल आय के १०% के अधीन): किसी भी स्थानीय प्राधिकरण या सरकार को किए गए दान जो किसी भी धर्मार्थ उद्देश्य के लिए इसका इस्तेमाल करेंगे, इस श्रेणी के तहत कटौती के लिए पात्र होंगे। ऐसे मामलों में, दाता की समायोजित सकल कुल आय का केवल 10% ही कटौती के लिए पात्र है। इस राशि से अधिक का दान 10% पर सीमित है
Question 7
विनियमित पेंशन में किस धारा के अंतर्गत छूट होती है।
A
10 (5)
B
10(10AA)
C
10(10)
D
10(10A)
Question 7 Explanation: 
Commuted value of Pension Received is Exempt from Tax [Section 10(10A)] As per section 10(10A), any commuted pension, i.e., accumulated pension in lieu of monthly pension received by a Government employee is fully exempt from tax. Exemption is available only in respect of commuted pension and not in respect of un-commuted, i.e., monthly pension. Exemption in respect of commuted pension in case of a non-Government employee will be as follows: Govt. employees, employees of local authorities and employees of statutory corporations Any other employee Fully Exempt (a) If gratuity is not received Commuted value of half of pension which he is normally entitled to receive. (b) If gratuity is also received Commuted value of 1/3rd of pension which he is normally entitled to receive. Pension received by the employee is taxable under the head "Salaries". However, the family pension received by the legal heirs after the death of the employee is taxable in the hands of the legal heir under the head "Income from other sources" because in this case there is no relationship of employer and employee. Treatment of family pension is discussed in detail under the head 'Income from other sources'.
Question 8
धारा 80DDB के अंतर्गत चिकित्‍सा उपचार के संबंध में भुगतान की वास्‍तविक राशि क्‍या होगी अगर व्‍यक्ति की उम्र 80 वर्ष से कम है।
A
60000
B
80000
C
100000
D
50000
Question 8 Explanation: 
Thus, the amount of deduction that can be claimed under Section 80DDB can be tabled as follows : Age of the person who is availing medical treatment Amount of deduction (Rs.) Age less than 60 years Rs.40,000 or actual expenses, whichever is less Senior Citizens- Age 60 years and above Rs.1,00,000 or actual expenses, whichever is less Very Senior Citizens- Age 80 years and above Rs.1,00,000 or actual expenses, whichever is less
Question 9
खराब होने वाले सामान के स्टोर होने पर कोल्ड स्टोरेज में भुगतान के लिए किस धारा के तहत टीडीएस काटा जाएगा।
A
194H
B
194C
C
194D
D
194I
Question 9 Explanation: 
the provision of section 194-C will be applicable to the amounts paid as cooling charges by the customers of the cold storage. This may be brought to the notice of the Assessing Officers under your charge.
Question 10
What is the maximum amount of deduction u/s 80TTA will be applicable in interest from Saving Account.
A
10000
B
15000
C
5000
D
20000
Question 10 Explanation: 
Deduction under Section 80TTA Section 80TTA is titled as ‘Deduction in respect of interest on deposits in savings account’ in the Income Tax Act. Here are the salient features of this section: You can claim exemption on up to Rs. 10,000 received as interest on your savings account deposits. The savings account can be held in any of the following financial institution: Bank Cooperative society Post office You can claim exemption on any number of savings accounts as long as the total amount you are seeking exemption on is less than Rs. 10,000.
Question 11
टी0डी0एस0 प्रमाण पत्र जारी करने के लिए ३० सितंबर को समाप्‍त होने वाली तिमाही की देय तिथ‍ि क्‍या होगी।
A
15 September
B
30 November
C
15 November
D
01 November
Question 11 Explanation: 
For first-quarter of 1st April to 30th June – 15th August For second-quarter of 1st July to 30th September – 15th November For third-quarter of 1st October to 31st December – 15th February For fourth-quarter of 1st January to 31st March – 15th June
Question 12
व्‍यवसायिक या तकनीकी सेवाओंं के लिए शुल्‍क/स्‍वत्‍व शुल्‍क (रॉयल्‍टी)/अपूर्ण शुल्‍क के लिए टी0डी0एस की मूल सीमा क्‍या है।
A
20000
B
30000
C
25000
D
15000
Question 12 Explanation: 
he Threshold Section 194J Under TDS Section 194J under TDS (Tax Deducted at Source) will be not deducted where the prescribed payment or credit does not exceed the prescribed threshold limit. Category Threshold Limit Fees for professional services 30000 Fees for technical services 30000 Royalty 30000 Non-compete fees 30000 Remuneration/ commission/fees payable to a director of a company No such limit
Question 13
लेखा परीक्षा का कौन सा मानक बताता है कि मिथ्‍या कथन को रोकना, पता लगाना और सुधारना उत्‍तरदायित्‍व है।
A
SA220
B
SA530
C
SA240
D
SA560
Question 13 Explanation: 
Standard on Auditing, (SA) 240, one of the most authoritative text deals with the auditor’s responsibilities relating to fraud in an audit of financial statements. With the flood of opportunities to open up for auditors to audit financial statement
Question 14
आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 194I के अंतर्गत 2017-18 कर सीमा क्‍या है।
A
15000
B
100000
C
180000
D
500000
Question 14 Explanation: 
Threshold Exemption Limit for TDS on Rent under Section 194I Please note that earlier the threshold exemption limit was INR 1,80,000, however, from Financial Year 2019-2020 the threshold exemption limit for TDS on Rent has been increased to INR 2,40,000.
Question 15
वित्‍तीय वर्ष 2017-18 के लिए एल0आई0सी0 या अन्‍य बीमा कंपनी की पेशन निधि फण्‍ड में अधिकतम कितनी कटौति है।
A
130000
B
120000
C
140000
D
150000
Question 15 Explanation: 
What is Section 80CCC? This section provides tax deduction up to a maximum of Rs. 1,50,000 during a year on costs incurred in buying a new policy or continuing an existing plan that pays pension or a periodical annuity (as referred to in Section 10(23AAB)). However, the pension amount received, including interest or bonus accrued on the annuity, is taxable during the year of receipt. An essential point to be noted is that the deduction limit under Section 80CCC is clubbed with the limit of section 80C and section 80CCD - which means the overall tax deduction limit that can be claimed is Rs. 1,50,000.
Question 16
धारा 80 G के अन्‍तर्गत मंदिर, चर्च, गुरूद्वारे और मस्जिद में दिये जाने वाले चंदे के लिऐ सीमा अनुमत कर छूट है।
A
बिना अर्हक सीमा के 100%
B
बिना अर्हक सीमा के 50%
C
अर्हक सीमा के अधीन 100%
D
अर्हक सीमा के अधीन 50%
Once you are finished, click the button below. Any items you have not completed will be marked incorrect. Get Results
There are 16 questions to complete.

Part-3 Online Practice Test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021

Congratulations - you have completed Part-3 Online Practice Test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021.

You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%.

Your performance has been rated as %%RATING%%


Your answers are highlighted below.
Question 1
धारा 80G के अंतर्गत मंदिर, चर्च, गुरूद्ववारे और मस्जिद को दिये जाने वाले चंदे के लिऐ अनुमत सीमा है।
A
बिना अर्हक सीमा के 100%
B
बिना अर्हक सीमा के 50%
C
अर्हक सीमा के अधीन 100%
D
अर्हक सीमा के अधीन 50%
Question 1 Explanation: 
Donations Eligible for 50% Deduction Subject to 10% of Adjusted Gross Total Income. For repairs or renovation of any notified temple, mosque, gurudwara, church or other places.
Question 2
आंकलन वर्ष 2018-19 के लिए 0 to 3,50,000 आय स्‍तर पर धारा 87A के अंतर्गत लागू छूट है।
A
कुल आय पर आयकर या 5000 जो भी अधिक हो
B
कुल आय पर आयकर या 2500 जो भी अधिक हो
C
कुल आय पर आयकर या 2500 जो भी कम हो
D
कुल आय पर आयकर या 5000 जो भी कम हो
Question 2 Explanation: 
आंकलन वर्ष 2018-19 के लिए कुल आय पर आयकर या 2500 जो भी कम हो परन्‍तु वर्तमान में This revised rebate limit ensures that individuals whose net taxable income does not exceed INR 5,00,000 the rebate limit has been revised from INR 2,500 to INR 12,500.
Question 3
कर्मचारी भविष्‍य निधि से समय पूर्व आहरण करने पर टी0डी0एस0 की कौन सी धारा लगती है।
A
192B
B
193C
C
194A
D
192A
Question 3 Explanation: 
What is Section 192 of the Income Tax Act? Section 192A of Income Tax Act is concerned with the TDS on premature withdrawal from EPF. It directs the Employees’ Provident Fund Scheme, 1952 to deduct TDS when employees do not meet the provisions mentioned under Rule 8, Part A of Fourth Schedule.
Question 4
80G के अंतर्गत परिवार नियोजन को बढ़ावा देने के लिए संस्‍था को दिए गए दान के लिए अनुमक सीमा क्‍या है।
A
अर्हक सीमा के अधीन 50 %
B
अर्हक सीमा के अधीन 100%
C
बिना किसी अर्हक सीमा के 100%
D
बिना किसी अर्हक सीमा के 50%
Question 4 Explanation: 
Donations with 100% deduction (Subjected to 10% of adjusted gross total income): Donations made to local authorities or government to promote family planning and donations to Indian Olympic Association qualify for deductions under this category. In such cases, only 10% of the donor’s Adjusted Gross Total Income is eligible for deductions. Donations which exceed this amount are rounded off to 10%. Donations with 100% deduction (Without any qualifying limit): Donations made under this category enjoy 100% tax deduction and are not subject to any qualification limit being met. Donations to the National Defence Fund, Prime Minister’s National Relief Fund, The National Foundation for Communal Harmony, National/State Blood Transfusion Council, etc. qualify for such deductions. Donations with 50% Deduction (Without any qualifying limit): Donations made towards trusts like Prime Minister’s Drought Relief Fund, National Children’s Fund, Indira Gandhi Memorial Fund, etc. qualify for 50% tax deduction on donated amount. Donations with 100% deduction (Subjected to 10% of adjusted gross total income): Donations made to local authorities or government to promote family planning and donations to Indian Olympic Association qualify for deductions under this category. In such cases, only 10% of the donor’s Adjusted Gross Total Income is eligible for deductions. Donations which exceed this amount are rounded off to 10%. Donations with 50% deduction (Subjected to 10% of adjusted gross total income): Donations made to any local authority or the government which would then use it for any charitable purpose qualify for deductions under this category. In such cases, only 10% of the donor’s Adjusted Gross Total Income are eligible for deductions. Donations which exceed this amount are capped at 10%.
Question 5
उपदान में आयकर अधिनियम 1961 की किस धारा के अंतर्गत छूट दी जाती है।
A
Section 10(5)
B
Section 10(10AA)
C
Section 10(10A)
D
Section 10(10)
Question 5 Explanation: 
Section 10(10) in The Income- Tax Act, 1995 (10) (i) any death- cum- retirement gratuity received under the revised Pension Rules of the Central Government or, as the case may be, the Central Civil Services (Pension) Rules, 1972 , or under any similar scheme applicable to the members of the civil services of the Union or holders of posts connected with defence or of civil posts under the Union (such members or holders being persons not governed by the said Rules) or to the members of the all India services or to the members of the civil services of a State or holders of civil posts under a State or to the employees of a local authority or any payment of retiring gratuity received under the Pension Code or Regulations applicable to the members of the defence services; (ii) any gratuity received under the Payment of Gratuity Act, 1972 (39 of 1972 ), to the extent it does not exceed an amount calculated in accordance with the provisions of sub- sections (2) and (3) of section 43 of that Act; (iii) any other gratuity received by an employee on his retirement or on his becoming incapacitated prior to such retirement or on termination of his employment, or any gratuity received by his widow, children or dependents on his death, to the extent it does not, in either case, exceed one- half month' s salary for each year of completed service, 5 calculated on the basis of the average salary for the ten months immediately preceding the month in which any such event occurs, subject to such limit as the Central Government may, by notification in the Official Gazette, specify in this behalf having regard to the limit applicable in this behalf to the employees of that Government]: Provided that where any gratuities referred to in this clause are received by an employee from more than one employer in the same previous year, the aggregate amount exempt from income- tax under this clause 6 shall not exceed the limit so specified]:
Question 6
धारा 192 के अंतर्गत कर्मचारियों के वेतन पर टी0डी0एस0 को किस प्रपत्र के अंतर्गत भरा जाना चाहिए
A
Form 26Q
B
Form 24Q
C
Form 27Q
D
Form 27EQ
Question 6 Explanation: 
इसे सुनें Form 24Q : इस फॉर्म का उपयोग सरकार और कॉरपोरेट द्वारा भारतीय नागरिकों को सैलरी पेमेंट पर तिमाही टीडीएस रिटर्न दाखिल करने के लिए किया जाता है. Form 26Q : इस फॉर्म का उपयोग सरकार और कॉरपोरेट द्वारा भारतीय नागरिकों को सैलरी के अलावा किए गए अन्य पेमेंट पर तिमाही टीडीएस रिटर्न दाखिल करने के लिए किया जाता है.
Question 7
व्‍यवसायिक या तकनीकी सेवाओं के लिए शुल्‍क/स्‍वत्‍व शुल्‍क (रॉयल्‍टी/अपूर्ण शुल्‍क/ निदेशक परिश्रमिक) टी0डी0एस0 को आयर अधिनियिम 1961 की किस धारा के अंतर्गत निर्धारित किया जाता है।
A
194J
B
194LA
C
194IC
D
194A
Question 7 Explanation: 
सेक्शन 194J में टीडीएस काटने के लिए कौन से पर्सन जिम्मेदार है ? किसी भी तरह की प्रोफेशनल सर्विसेज के लिए फीस का भुगतान, ( CA, डॉक्टर या इंजीनियर ) टेक्निकल सर्विसेज के लिए फीस का भुगतान, रॉयल्टी, सेक्शन (28va ) में बताई गयी non competence fees* ( 1 जुलाई 2012 से एप्लीकेबल ), डायरेक्टर को सैलरी के अलावा दी गयी फीस (बोर्ड मीटिंग में भाग लेने के लिए दी गयी सीटिंग फीस )
Question 8
संयंत्र और मशीनरी का सत्‍यापन करने के दौरान कौन सा लेखांकन मानक अनुपालन सुनिश्चित करता है।
A
AS 4
B
AS 10
C
AS 19
D
AS 5
Question 8 Explanation: 
1. The objective of Accounting Standard (AS) 10 Property, Plant and Equipment is to prescribe the accounting treatment for property, plant and equipment so that users of the financial statements can discern information about investment made by an enterprise in its property, plant and equipment and the changes in such investment. The principal issues in accounting for property, plant and equipment are the recognition of the assets, the determination of their carrying amounts and the depreciation charges and impairment losses to be recognised in relation to them.
Question 9
आवासीय गृह संपत्ति हेतु लिये गये ऋण पर ब्‍याज के संबंध में, आयकर अधिनियम 1961 की धारा के अन्‍तर्गत कटौति प्राप्‍त करने के लिए, आवासीय गृह संपत्ति का अधिकतम मूल्‍य कितना होगा।
A
50 Lakh
B
60 Lakh
C
70 Lakh
D
30 Lakh
Question 9 Explanation: 
What is Section 80EE of the Income Tax? Section 80EE allows Income Tax Benefit on Interest on Home Loan to first time buyers in the following events:- This deduction will be provided only if the cost of the property acquired is not more than Rs. 50 Lakhs and the amount of the loan taken is upto Rs. 35 Lakhs. The loan should be sanctioned between 1st April 2016 and 31st March 2017. The advantage of this deduction would be possible till the time the payment of the loan continues. This deduction would be accessible from the financial year 2016-17 and onwards.
Question 10
80G के अंतर्गत स्‍वच्‍छ भारत कोष के लिये दिए गए दान के लिए अनुमत कटौति है।
A
बिना किसी अर्हक सीमा के 50%
B
अर्हक सीमा के अधीन 100%
C
अर्हक सीमा के अधीन 50%
D
बिना किसी अर्हक सीमा के 100%
Question 10 Explanation: 
100% Donations to the “Swachh Bharat Kosh” , other than the sums spent for “Corporate Social Responsibility” under sub-section (5) of Section 135 of the Companies Act, 2013 are eligible for 100% deduction under section 80G of the Income-tax Act, 1961. This is applicable to the assessment year 2015-16 and subsequent years.
Once you are finished, click the button below. Any items you have not completed will be marked incorrect. Get Results
There are 10 questions to complete.

UPPCL ASSISTANT ACCOUNTANT EXAM 2021 PAPER

UPPCL ASSISTANT ACCOUNTANT EXAM 2021 PAPER
Start

Congratulations - you have completed UPPCL ASSISTANT ACCOUNTANT EXAM 2021 PAPER.

You scored %%SCORE%% out of %%TOTAL%%.

Your performance has been rated as %%RATING%%


Your answers are highlighted below.
Return
Shaded items are complete.
12345
678End
Return

Download Previous Year UPPCL Assisant Accountant Paper?

Do you know that Previous year UPPCL Assistant Accountant paper is very important for the preparation of Current UPPCL Assistant Accountant Exam 2021, Hence With this online practice set for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021, I am providing you Link to Download Previous year Assistant Accountant Exam Papers.

Also you can Download others exam paper Like UPPCL Camp Assistant Exam, Assistant Review Exam, ARO. So that you can collect 500 Computer Question, Hindi Subject Question etc which is very important in point of view UPPCL ASSISTANT ACCOUNTANT EXAM 2021.

Download UPPCL Assistant Accountant New paperClick Here to Download
Download UPPCL Assistant Account OLD PaperClick Here to Download
Download UPPCL ARO New paperClick here to Download
Download UPPCL Assistant Review Officer Paper Set-1Click Here to Download
Download UPPCL Assistant Review Officer Paper Set-2Click Here to Download
Download UPPCL Assistant Review Officer Paper Set-3Click Here to Download
Download UPPCL Camp Assistant/ Stenographer New paperClick here to Download
Download UPPCL Camp Assistant/ Stenographer Old PaperClick here to download
Download UPPCL Office Assistant Old PaperClick here to Download
Download MS Word Important Question for UPPCL ExamClick here to Download

You upgrade your knowledge by giving mock test for UPPCL Assistant Accountant Exam 2021 and get success in your upcoming exam 2021.