स लेख में मैं आपको रक्षा बंधन से सम्‍बन्‍धित कई तथ्‍यों के बारे में जानकारी उपलब्‍ध करा रहा हूँ । जैसे रक्षा बंधन का पर्व क्‍यों मनाया जाता है। सन २०२० यानि इस साल रक्षा बंधन का मुहूर्त क्‍या है। राखी बांधने का समय  क्‍या है।

राखी बांधने का समय

राखी बांधने का समय| रक्षा बंधन का मुहूर्त।

  • राखी बांधने का समय या राखी बांधने का मुहूर्त दिनांक ०३ अगस्‍त २०२० को – सुबह 9 बजकर 27 मिनट ३० सैकेण्‍ड से रात्रि  9 बजकर 11 मिनट 21 सैकेण्‍ड तक का है जो निम्‍न चौधडि़याें में विभक्‍त है-

– शुभ : सुबह 9.29 से 10.54 बजे तक।

– अभिजीत मुहूर्त : दोपहर 12.06 से 12.59 बजे तक।

– चर : दोपहर 2.12 से 3.51 बजे तक।

– लाभ : दोपहर 3.51 से 5.30 बजे तक।

– अमृत : शाम 5.30 से 7.10 बजे तक।

रक्षा बंधन का पर्व क्‍यों मनाया जाता है?

पौराणिक मान्यता है कि श्री कृष्‍ण भगवान व राजा शिशुपाल के बीच हुए युद्ध। में भगवान श्रीकृष्‍ण ने जब राजा शिशुपाल का वध किया। तब उनके हाथ से खून निकल रहा था। जो कि द्रोपदी ने देख लि‍या। तथा द्रोपदी ने तुरन्‍त अपनी साड़ी का पल्‍लू फाड़कर श्रीकृष्‍ण भगवान के हाथ में बांध दिया। तभी से द्रोपदी को भगवान कृष्‍ण अपनी बहन मानने लगे। और इसी कारण रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाने लगा। तथा जब पाण्‍डव द्रोपदी को जुए में हार गए और द्रोपदी का चीर हरण होने लगा। तब भगवान कृष्‍ण ने भाई का फर्ज अदा किया और द्रोपदी की रक्षा की। (राखी बांधने का मुहूर्त)

मान्‍यता के अनुसार कौन सा राखी बांधने का मुहूर्त| रक्षा बंधन का मुहूर्त| राखी बांधने का समय उचित नहीं है।

मान्‍यता है कि भद्रा में राखी बांधने का समय उचित नहीं हैं। क्‍योंकि रावण की बहन ने रावण के भद्रा में राखी बांधी थी। जिससे उसका सर्वनाश हो गया था। अत- हमे भद्रा का ध्‍यान रखते हुए ही रक्षा बंधन का पर्व मानना चाहिए ताकि कोई अहित न हो पाये। (राखी बांधने का मुहूर्त)

हमारे अन्‍य लेखों को पढने के लिये नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करें।

Sidhbali Mandir Kotdwar | Sidhbali Temple Kotdwar

Best Shampoo for NewBorn Baby in India

51 शक्‍ति पीठ | 52 शक्ति पीठ का रहस्‍य

Grishneshwar Jyotirlinga | घृष्‍णेश्‍वर ज्‍योर्तिलिंग

Rameshwaram Jyotirlinga | रामेश्‍वर ज्‍योर्तिलिंग का रहस्‍य

Nageshwar Jyotirlinga नागेश्‍वर मंदिर का रहस्‍य

Vaidyanatheshwar Jyotirlinga । कामना लिंग कर रहस्‍य

Kashi Vishwanath Temple । विश्‍वेश्‍वर ज्‍योर्तिलिंग

Bhimeshwar Jyotirlinga Mystery| भीमेश्‍वर ज्‍योर्तिलिंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »