RBI Changing ATM Rules | RBI ने किये ATM नियमों में बदलाव

0
105
RBI Changing ATM Rules from August 2021
RBI Changing ATM Rules from August 2021

दोस्‍तो RBI द्वारा ATM नियमों में बदलाव किये जा रहे हैं जोकि 01 अगस्‍त 2021 से लागू होंगे, तो चलिये जाते है कि why RBI Changing ATM Rules?

अभी हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक ने इण्‍टरचेंज शुल्‍क में बढ़ोत्‍तरी की है जो कि बैंकों द्वारा ए0टी0एम0 के लेनदेन पर की जा सकती है।

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किये जा रहे प्रमुख बदलाव

  1. बैंकों को वित्तीय लेनदेन के लिए इंटरचेंज शुल्क को रूपये 15 से बढ़ाकर रूपये 17 रुपये करने की अनुमति है।
  2. जबकि गैर-वित्तीय लेनदेन के शुल्‍क रूपये 5 से रूपये 6 तक बढ़ाने की अनुमति है। यह बदलाव 01 अगस्‍त 2021 से लागू होंगे।
  3. बैंक ग्राहकों को मुफ्त लेनदेन की प्रत्‍येक महीने की निर्धारित सीमा से अधिक के लेनदेन पर  1 जनवरी, 2022 से 20 रुपये के बजाय प्रति लेनदेन 21 रुपये का भुगतान करना होगा।

क्‍या है ए0टी0एम0 से मासिक लेनदेन की सीमा?

कोई भी ग्राहक अपने ए0टी0एम0 से हर माह 5 मुफ्त लेनदेन कर सकता है। जिसमें वित्‍तीय और गैर वित्‍तीय( जैसे स्‍टैटमेंट या बैलेंस देखना गैर वित्‍तीय होता है) दोनों लेनदेन शामिल होते हैं। यह लेनदेन की सीमा महानगरों में 3 लेनदेन तथा गैर महानगरों में 5 लेनदेन तक ही है।

क्‍या है इण्‍टरचेंज शुल्‍क?

क्‍या आपको यह पता कि इण्‍टरचेंज शुल्‍क बैकों द्वारा डेबिट या क्रेडिट कार्ड के जरिये भुगतान करने वाले व्‍यक्तियों से लिया जाता है। यदि किसी व्‍यक्ति का ए0टी00एम0 पंजाब नेशनल बैंक का है और वह पंजाब नेशनल बैंक से पैसे न निकालकर अन्‍य किसी बैंक के ए0टी0एम0 से पैसे निकालता है तो उसे इण्‍टरचेंज के नाम से जाना जाता है, जिस पर इण्‍टरचेंज शुल्‍क लगता है। यह शुल्‍क जिस बैंक का ए0टी0एम0 कार्ड है उस बैंक द्वारा अन्‍य बैंक जिससे पैसे निकाले गये हैं, को देना पड़ता है। यह शुल्‍क वित्‍तीय लेनदेन और गैर वित्‍तीय लैनदेन जैसे एकाउण्‍ट बैलेंस देखना, मिनी ट्रांजैक्‍शन देखना आदि गैर वित्‍तीय और पैसे निकालना वित्‍तीय लेनदेन दोनों पर लगता है।